टैग पुरालेख: हितेन्द्र

सुबह नौ से शाम पाँच को, सोमवार से शुक्रवार॥

बच्चों सुन लो नयी कहानी, यों हँस कर के बोली नानी, एक था हितेन्द्र दिल्लीवार, प्राइवेट कंपनी में था एच-आर॥ जीवन उसका एक चक्कर था, संसार उसका एक दफ्तर था, सुबह नौ से शाम पाँच को, सोमवार से शुक्रवार॥ निगाह डालकर एक सरसरी, सुबह वो पढ़ता था  अखबार, बस-स्टॉप की राह पकड़ता,  नहा-धोकर हो तैयार […]