Tag Archives: संसकृत

हिन्दी की ‘शुद्धता’ पर फेसबुक में चर्चा

हिन्दी भाषा की क्लिष्टता अथवा शुद्धता के विषय पर फेसबुक पर एक मित्र का आलेख पढ़ा। पहले भी उनके आलेख पढ़ता आया हूँ और निःसंदेह वे अत्यंत ज्ञानी, राष्ट्रवादी और हिन्दी भाषा के बहुत ही अच्छे जानकार हैं। उनके प्रति पूर्ण आदर है। नाम आदि का उल्लेख न करते हुए यह बता दूँ कि उनका […]