श्रेणी विविध (General)

नीले आसमान के तले काली धरती की कहानी है काला !

फ़िल्म “काला” देखी। हिंदी में डबिंग थी सो मूल फ़िल्म जैसा अनुभव नहीं हो सकता। लेकिन फ़िल्म कैसी लगी यह बताने से ज्यादा महत्वपूर्ण है यह बताना कि ऐसी फिल्मों का इस स्तर पर बनना और सफ़ल होना कितना अधिक महत्वपूर्ण है। तमिल फिल्म निर्देशक पा रंजीत (काला के भी निर्देशक) दलित हैं, वैसे ही […]

स्वाभाविक है महिलाओं के द्वारा हस्तमैथुन, तब भी जब वे विवाहित हों

केवल वयस्क पढ़ें (उम्र से भी और दिमाग़ से भी) To be read by adults only (Adults by age as well as intellect) महिलाओं के द्वारा हस्तमैथुन स्वाभाविक है. तब भी जब वे विवाहित हों. आईटी सेल (बताने की जरूरत नहीं किस पार्टी का) के कारिंदे फिल्म अभिनेत्री स्वरा भास्कर के पीछे पड़ गए. जैसा […]

The Indian Express Debate on the Muslim Question

Prof. Suhas Palshikar has furthered the debate on the Muslim question that was started by an article by Harsh Mander and a response to it by historian and author Ramchandra Guha.   The Muslim question is obviously a very important question that has many contestants in the Indian politics and society. There is obviously a […]

प्रधानमंत्री का साक्षात्कार कैसे लें?

मोदी जी से इंटरव्यू के लिए कड़े और मुश्किल सवालों की सूची। जो चाहे इस्तेमाल कर ले: १. मोदी जी आप बहुत क्यूट हैं। (ये सवाल ही है) २. नरेंद्र मोदी जी आप 24 में 26 घंटे काम करते हैं। इतना कम क्यों सोते हैं आप? ३. आदरणीय प्रधानमंत्री जी, आपने पूरी दुनिया में देश […]

सोशल मीडिया के आदर्श बुजुर्ग

सोशल मीडिया पर विद्यमान एक आदर्श बुजुर्ग वह है जो सुबह उठकर निबटे, फिर पतंजलि के साबुन से हाथ धोकर दंत कांति से मंजन घिसे। अब मोबाइल उठाए। फिर व्हाट्सएप में जितने भी पारिवारिक ग्रुप हैं उनमें गुडमार्निंग का एक मैसेज चिपकाए। उसके बाद मुसलमानों और दलितों को देशद्रोही करार देने वाले दो मैसेज भेजे। […]

न्यू इंडिया अर्थात पाकिस्तान

मेरठ में एक मुसलमान ने हिन्दू से घर खरीदा। मोहल्ले के लोग और भाजपा पार्षद नारेबाजी करने लगे कि हमें किसी मुसलमान के साथ नहीं रहना। अंततः हिन्दू ने मुसलमान को पैसे वापस किए और घर का सौदा रदद् हुआ। आरएसएस के मुखिया मोहन भागवत का कहना है कि भारत में रहने वाला हर व्यक्ति […]

जाति बनाम हिंदुत्व, गुजरात के संदर्भ में

“हिंदुत्व की प्रयोगशाला” समझे गए गुजरात में जाति एक बार फ़िर धार्मिक पहचान पर हावी है। संघ के प्रयोगों के नतीजे जो सही लग रहे थे अब गलत साबित हो रहे हैं। संघ परिवार का सबसे बड़ा एजेंडा है गैर ईसाइयों और गैर मुसलमानों के अलावा बाकी सबको हिन्दू पहचान के अंतर्गत एकजुट रखना। यदि […]

भारत में इन दिनों की स्टैंड अप कॉमेडी पर

बीते कुछ सालों में स्टैंड अप कॉमेडी करने वालों और ऐसे आयोजनों की संख्या में बड़ी वृद्धि हुई है। यह अच्छी बात है। इनमें से ज्यादातर कार्यक्रम यू-ट्यूब या सोशल मीडिया पर उपलब्ध हैं। उनमें से काफ़ी कुछ देखने के बाद और कुछ आयोजनों में जाने के बाद मोटे तौर पर यह निष्कर्ष निकलता है […]

नहीं है कोई टाइम मशीन

इंग्लैण्ड पर अनेक हमले हुए। अनेकों ने बाहर से आकर उस पर शासन किया। इंग्लैण्ड के केल्टिक निवासी पुरानी इंग्लिश बोलते थे जो अलग-अलग कबीलों में अलग-अलग रूपों में थी। उन पर डचों का हमला हुआ, वाइकिंग्स ने राज किया, रोमन साम्राज्य का राज सदियों रहा, फ़्रांस के नॉर्मन योद्धा विलियम द कॉन्करर ने राज […]

चौसर खेलना क्यों है हराम?

चौसर का आविष्कार नूतन शर्मा ने किया था। यह नूतन शर्मा वही है जिसने न्यूटन (चुराया हुआ नाम) के जन्म के 2000 वर्ष पहले भारत में गुरुत्वाकर्षण शक्ति की खोज कर ली थी। नूतन ने यह पूरा ज्ञान लिखकर उसे प्रमाणित करने के लिए आईआईटी मुम्बई में पीएचडी के लिए आवेदन किया था। उस समय […]