Category कहानी (Story)

दुर्गा-शक्ति-नागपाल (लघुकथा)

सुबह आठ बजे का समय। मुख्यमंत्री निवास के बाग में खद्दर का कुर्ता-पायजामा पहने मुख्यमंत्री दुर्गाप्रसाद चाय पी रहे थे। सामने टेबल पर कुछ बिस्किट और भुने हुए नमकीन काजू रखे हुए थे। इतने में सिलेटी रंग की सफ़ारी पहने हुए उनकेनिजी सचिव अखिलेश और पैंतीस वर्षीय एक गोरा-चिट्टा युवक जिसने सफ़ेद कमीज, गहरी नीली […]

पानी के किस्से

इन दिनों हवा में गर्मी है, और प्यास भी ज़्यादा लगा करती है। ऐसे में पानी ज़्यादा पीना पड़ता है। पर गर्मियों में पानी की कमी होती है। इसीलिए पानी के मूल्य का बोध मनुष्य को गर्मियों में ही होता है, तब वह साल भर पानी बचाने का संकल्प लेता है और हर साल वर्षा […]

हितोपदेश की संपूर्ण कथायें

भारत सरकार के सूचना और तकनीकी विभाग के ‘भारतीय भाषाओं के लिये तकनीकी विकास’ प्रकल्प’ ने प्रशंसनीय कार्य किया है। इस प्रकल्प के साथ देश के अनेक विश्वविद्यालय जुड़े हैं। इनके जाल स्थल पर हितोपदेश की लगभग सभी कथायें हिन्दी में यूनिकोड पर दी गयी हैं। इस पोस्ट के अंत में सभी कहानियों के श्रेणीबद्ध लिंक दिये गये […]

बेताल पच्चीसी: पच्चीसवीं कहानी

योगी राजा को और मुर्दे को देखकर बहुत प्रसन्न हुआ। बोला, ‘‘हे राजन्! तुमने   यह कठिन काम करके मेरे साथ बड़ा उपकार किया है। तुम सचमुच सारे राजाओं में श्रेष्ठ हो।’’                  इतना कहकर उसने मुर्दे को उसके कंधे से उतार लिया और उसे स्नान कराकर फूलों की मालाओं से सजाकर रख दिया। फिर मंत्र-बल से […]

बेताल पच्चीसी: चौबीसवीं कहानी

किसी नगर में मांडलिक नाम का राजा राज करता था। उसकी पत्नी का नाम चडवती था। वह मालव देश के राजा की लड़की थी। उसके लावण्यवती नाम की एक कन्या थी। जब वह विवाह के योग्य हुई तो राजा के भाई-बन्धुओं ने उसका राज्य छीन लिया और उसे देश-निकाला दे दिया। राजा रानी और कन्या […]

बेताल पच्चीसवीं: तेईसवीं कहानी

कलिंग देश में शोभावती एक नगर है। उसमें राजा प्रद्युम्न राज करता था। उसी नगरी में एक ब्राह्मण रहता था, जिसके देवसोम नाम का बड़ा ही योग्य पुत्र था। जब देवसोम सोलह बरस का हुआ और सारी विद्याएँ सीख चुका तो एक दिन दुर्भाग्य से वह मर गया। बूढ़े माँ-बाप बड़े दु:खी हुए। चारों ओर […]

बेताल पच्चीसी: बाईसवीं कहानी

 कुसुमपुर नगर में एक राजा राज्य करता था। उसके नगर में एक ब्राह्मण था, जिसके चार बेटे थे। लड़कों के सयाने होने पर ब्राह्मण मर गया और ब्राह्मणी उसके साथ सती हो गयी। उनके रिश्तेदारों ने उनका धन छीन लिया। वे चारों भाई नाना के यहाँ चले गये। लेकिन कुछ दिन बाद वहाँ भी उनके […]

बेताल पच्चीसी: इक्कीसवीं कहानी

विशाला नाम की नगरी में पदमनाभ नाम का राजा राज करता था। उसी नगर में अर्थदत्त नाम का एक साहूकार रहता था। अर्थदत्त के अनंगमंजरी नाम की एक सुन्दर कन्या थी। उसका विवाह साहूकार ने एक धनी साहूकार के पुत्र मणिवर्मा के साथ कर दिया। मणिवर्मा पत्नी को बहुत चाहता था, पर पत्नी उसे प्यार […]

बेताल पच्चीसी: बीसवीं कहानी

चित्रकूट नगर में एक राजा रहता था। एक दिन वह शिकार खेलने जंगल में गया। घूमते-घूमते वह रास्ता भूल गया और अकेला रह गया। थक कर वह एक पेड़ की छाया में लेटा कि उसे एक ऋषि-कन्या दिखाई दी। उसे देखकर राजा उस पर मोहित हो गया। थोड़ी देर में ऋषि स्वयं आ गये। ऋषि […]

बेताल पच्चीसी: उन्नीसवीं कहानी

वक्रोलक नामक नगर में सूर्यप्रभ नाम का राजा राज करता था। उसके कोई सन्तान न थी। उसी समय में एक दूसरी नगरी में धनपाल नाम का एक साहूकार रहता था। उसकी स्त्री का नाम हिरण्यवती था और उसके धनवती नाम की एक पुत्री थी। जब धनवती बड़ी हुई तो धनपाल मर गया और उसके नाते-रिश्तेदारों […]