सामयिक (Current Issues)

इंस्पायरिंग स्टोरी

एक ग़रीब का उन्नीस किलोमीटर रोज़ दौड़ना ज़रूरी है।

ताकि सबसे पहले हमें यह पता चले कि हम उतने ग़रीब नहीं हैं।

और इसलिए भी कि एक फिल्ममेकर अपना एक और वीडियो वायरल करवा सके। और फिर उस वायरल वीडियो से झटक ले कुछ और टीआरपी।

उस ग़रीब का नाम पता सब कुछ पूछकर ज़ाहिर किया जा सकता है। उसकी प्राइवेसी उसी दिन ख़त्म हो गई थी जब उसने ग़रीबी में जन्म लिया।

वायरल होने से ग़रीब को कोई फायदा हो न हो, वायरल वीडियो की गिनती में एक इज़ाफ़ा तो हो ही जाता है।

हमें ऐसी बहुत सी कहानियाँ चाहिए। ये कहानियाँ हमें “इंस्पायर” करेंगी ताकि हम यूपीएससी का चौथा प्रयास अच्छी तरह से करें, ताकि हमारे स्टार्टअप्स एक दिन यूनिकॉर्न बनें और हम किसी टेड टॉक में जाकर इनमें से कोई एक कहानी सुना सकें।

ग़रीबों शुक्र मनाओ तुम हमारी कहानियों में हो।

– हितेन्द्र अनंत

https://www.ndtv.com/india-news/videos-19-year-olds-10-km-midnight-run-story-makes-him-indias-darling-2833438#pfrom=home-ndtv_m_topscroll

Advertisement
मानक

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s