माणसाने (नामदेव ढसाळ की मराठी कविता का हिंदी अनुवाद)

मराठी के प्रख्यात कवि, दलित चेतना के प्रमुख स्वर श्री नामदेव ढसाळ का आज सुबह निधन हो गया। उन्हें श्रद्धांजलि स्वरूप उनकी एक महान रचना “माणसाने” के अनुवाद का प्रयास ज़ारा अकरम खानKrantikumar Arade और Dinesh Kapse के सहयोग से किया है। आप भी पढ़िये। (अनुवाद की सारी त्रुटियाँ केवल और केवल मेरी)।

panther
माणसाने – नामदेव ढसाळ
‌‌‌————–
मनुष्य
पहले तो खुद को पूरी तरह बर्बाद करे
चरस ले, गांजा पिये
अफ़ीम लालपरी खाए
छक के देसी दारू पिये
इसको, उसको, किसी को भी
माँ-बहन की गालियाँ दे
पकड़कर पीटे

मर्डर करे
सोते हुओं का कत्ल करे
लड़कियों-छोरियों को छेड़े
क्या बूढ़ी, क्या तरूणी, क्या कमसिन
सभी को लपेट कर
उनका व्यासपीठ पर करे बलात्कार

ईसा के, पैगंबर के, बुद्ध के, विष्णु के वंशजों को फांसी दे
देवालय, मस्जिद, संग्रहालय आदि सभी इमारतें चूर-चूर कर दे

दुनियाभर में एक फफोले की तरह फैल चुकी
इन इंसानी करतूतों को फूलने दे
और अचानक फूट जाने दे

इसके बाद जो शेष रह गये
वे किसी को भी गुलाम न बनायें
लूटें नहीं
काला-गोरा कहें नहीं
तू ब्राह्मण, तू क्षत्रिय, तू वैश्य, तू शूद्र ऐसे कहकर दुत्कारें नहीं
आकाश को पिता और धरती को माँ मानकर
उनकी गोद मे मिलजुलकर रहें

चांद और सूरज भी फीके पड़ जाएँ
ऐसे उजले कार्य करे
एक-एक दाना भी सब बांट कर खाएँ
मनुष्यों पर ही फिर लिखी जाएँ कविताएँ
मनुष्य फिर मनुष्यों के ही गीत गायें

-नामदेव ढसाळ
——–

-हितेन्द्र अनंत

मूल मराठी कविता यहाँ से पढ़िये
http://www.globalmarathi.com/20120215/5490157106900750983.htm

One comment

  1. महाकवी नामदेव ढसाल great

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: